Statement by Caste Annihilation Movement

We demand unconditional and immediate release of all political prisoners including Comrades Sudha Bharadwaj, Anand Teltumbde!

Come out on 28 August in solidarity with those Comrades who are struggling for people’s cause!

Instead of arresting the RSS leaders who have unleashed the hate campaign and violence,  the Corporate,  Saffronised,  Fascist Government led by Modi arrested and dumped behind bars in Bhima Koregaon related fabricated cases, twelve Human Rights and Social Activists including Sudha Bharadwaj and Anand Teltumbde who have been speaking for the people. Many among them are seriously ill.  The Central Government could not yet frame Charge Sheets against them.  Not paying any heed to strong  protests and demands worldwide for the release of these Activists country,  the Government is keeping them behind bars and brutally torturing.  Even the National Investigating Agency is after the Lawyers and harassing them who are fighting the cases for these jailed Activists.  It is established now by the actions of Fascist Modi Government that they are  against the people as well as they have no regards to the human rights and Constitution of the Nation.  They are all out to establish a Corporate dependant Brahmanical Manuvadi Hindu Fascist State.

We request all friends of Dalit and oppressed section of the society and Progressive, Secular democratic forces to observe 28 August as Solidarity Day with the comrades who are  dumped in jails in falsely implicated Bhima Koregaon cases for the last two years and raise their voices for their unconditional and immediate release them immediately. Intensify the struggles against the agents of Corporates and Manuvadi Fascist Government.

For Caste Annihilation Movement

Bandhu Meshram, Jinda Bhagat,  Uttam Jagirdar
27.08.2020

कॉमरेड सुधा भारद्वाज, कॉमरेड आनंद तेलतुंबड़े सहित तमाम राजनैतिक बंदियों को निशर्त रिहा करो
28 अगस्त को जनता के लिए लड़ने वाले तमाम साथियों के साथ एकजुटता कायम करो
भीमा कोरेगांव मामले में जिसमे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्यकर्ताओं ने अशांति फैलाया लेकिन संघ के मार्गदर्शन में चलने वाली कॉरपोरेट घरानों की दलाल फ़ासिस्ट मोदी सरकार ने जनता के पक्ष में आवाज उठाने वाले सुधा भारद्वाज, आनंद तेलतुंबड़े जैसे 12 मानवाधिकार कार्यकर्ताओं, लेखकों एवं शिक्षाविदों को गिरफ्तार कर जेल में डाल कर रखा है।इनमे से कई अत्यंत बीमार हैं। केंद्र सरकार इन पर सही तरीके से आरोपपत्र भी दाखिल नही कर पाई है।बिना दोषी साबित किये भी इन सबको मोदी सरकार जेल में ही सड़ाकर मार डालना चाहती है और इसीलिए देश व दुनिया में हो रहे प्रबल विरोध को दरकिनार कर उन्हें तनिक भी राहत नहीं देना चाहती है।जो वकील इनका मुकदमा लड़ रहे हैं राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी उन्हें भी परेशान कर रही है।इससे यह बात साफ है कि फ़ासिस्ट मोदी सरकार जनता की दुश्मन है और इसे तनिक भी मानवाधिकारों या संविधान की गरिमा का ख्याल नहीं है।यह पूरी तरह से कॉरपोरेट परस्त घोर मनुवादी तानाशाही वाली हिंदुराष्ट्र बनाने की ओर अग्रसर है।
साथियों हम तमाम दलित, उत्पीड़ित शोषित वर्ग के साथियों से अपील करते हैं कि वे भीमा कोरेगांव मामले में गिरफ्तार साथियों (जिनको गिरफ्तार किए 2 वर्ष हो गए हैं)की निशर्त रिहाई के लिए आज एकजुटता दिवस मनाएं।साथ ही इस घोर मनुवादी कॉरपोरेट ताक़तों की दलाल सरकार के खिलाफ प्रतिरोध को तेज करें।

जातिउन्मूलन आंदोलन की ओर से
कॉमरेड बन्दू मेश्राम,  कॉमरेड जिंदा भगत,कॉमरेड उत्तम जागीरदार

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s